कवि की कविता

न अंदर चैन, है बाहर पीड़ा, हर कवि के मन में एक ही कीड़ा। वो किसे लिखे और किसे सँवारे? अपनी स्याही से किसे उतारे?

Advertisements