कलिंग-दान

तलवार म्यान से खिचती थी, आँखे दुश्मन की मिंचती थी। एक तीर ने कितने चीर दिये, बलि काल को कितने वीर किये।

Advertisements